Followers

Friday, 6 January 2017

सुपरमून

प्यारे दोस्तों,
एक प्रगतिवादी, प्रयोगधर्मी रचनाकार होने के नाते मैंने फिर एक बार साहस बटोरा है आपके सामने कुछ नयी कवितायें रखने का.
साहित्य-सेवा में कुछ और क़दम...
आप सब विचारशीलपाठकों से प्रेमानुरोध है कि कृपया दो बार पढ़ें .. दूसरी बार में आपको नया, असली अर्थ दिखेगा.
आपकी टिप्पणियाँ  मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, उनका स्वागत है!
--------------
* ये जानते हुए भी कि आपमें  बहुत से विद्वान् हैं, मैंने इस शब्द का प्रयोग जान-बूझ कर नहीं किया है. मेरा मानना है कि मेरी कविता विद्वत्ता का विषय नहीं है, ये विचारोत्तेजक है.. भावनाप्रधान है!
आपका,
-अमित
Image from Google

आती हुई सर्दी
नवम्बर की किसी रात को
जाने कितने बजे
सुपरमून धरती के क़रीब

नीले लोहे के
लाल फूलों की बारिश 
चन्दन की अगरबत्ती
से उठता उपलों का धुआँ

लिनेन के कुर्ते पर
काश्मीरी शॉल के नीचे
कोई गीला-ठण्डा कीड़ा
होने की बेचैनी

साँसें, आँखें, माथा, कनपटियाँ
सनसनाती सी
दिमाग़ में तैरते विचार
दिल में थमे अहसास

सब कुछ तो है
पर कुछ भी नहीं!

34 comments:

  1. Replies
    1. पसन्द करने के लिए आपका धन्यवाद, राजीव:)

      Delete
  2. आपकी कविता सुपरमून सुंदर एवं भावपूर्ण है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसन्द करने के लिए आपका धन्यवाद, काजल:)

      Delete
  3. Replies
    1. पसन्द करने के लिए आपका धन्यवाद, रूपम :)

      Delete
  4. I have been reading this poem, and leaving without comment, then coming back again to read this....I didn't leave a comment because I needed to think.....I may be way off what you mean but being a reader I have my rights....:P.....:D...I can reference it to the supermoon phenomenon on the face of it - the frenzy over it and the poet's indifference....it happens न जाने कितने बजे.....then, the rain - red flowers - embers? volcanic thoughts....or restlessness to give them shape and meaning....they seem calm like चन्दन but they burn.....the evident tranquility is just facade...there is tension underneath of अहसास....just like the supermoon is there but isn't there, the thoughts/emotions are there but they can evade, elude both the poet and the reader....

    ReplyDelete
    Replies
    1. You're bang on there, Sunaina, as expected:)
      As we all know a literary piece can be interpreted in more ways than one, but you have captured the essence..thank you:)
      I would like to draw your kind attention to the juxtaposition of 'नीले लोहे के
      लाल फूल' and 'चन्दन की अगरबत्ती/उपलों का धुआँ'..too!
      I'm grateful for your interest, time and energy you spent on this:)
      In fact readers'/critics' genuine reactions/feedback will decide the mode of my future writing..
      There are more to come shortly and your kind patronage is requested:) A big thanks again:):)

      Delete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसन्द करने के लिए आपका धन्यवाद, ओंकार :)

      Delete
  6. एक ही शब्द के अनेक अर्थों को ढूंढती आपकी सुंदर भावपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसन्द करने के लिए आपका धन्यवाद, राही जी:)

      Delete
  7. I love it and as you said 'Sahas'; I salute your Sahas :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ha ha:) Thank you Shams:) Please keep track..there are more 'sahasi' ones on their way..

      Delete
  8. kaffee gambheer vichar hain Amit jee.. baichainee, or ummeed ka adbhut sangam laga mujhe

    ReplyDelete
    Replies
    1. "baichainee, or ummeed ka sangam".. you said it Prasad:) This is the gist:) Thank you, dear:)

      Delete
  9. Loved the way of presentation,very nice one.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Jyotirmoy, for liking it:)

      Delete
  10. Replies
    1. Thank you Madhusudan:) Glad you liked:)

      Delete
  11. अपनी wordpress ID से आपके ब्लॉग पर कमेंट नहीं कर प् रहा हूँ, इसलिए blogpost ID से कमेंट कर रहा हूँ.
    पढ़ना तो दो बार से ज़्यादा ही पड़ा. पड़ेगा ही. गहरी बात सरसरी नज़र में पकड़ में ही नहीं आ सकती. और लिखने पर भी मजबूर कर दिया आपने!
    फिर भी कह नहीं सकता कि जो समझ सका, वाक़ई बात उसके आसपास है या कहीं दूर किसी और छोर पर है. वैसे कविता और कला जो जैसा समझे, उसकी समझ पर है!
    बिम्ब बड़े जतन से संजोये गये हैं. यक़ीनन गहरी बेचैनी है. पता नहीं कवि का इशारा इस तरफ है या नहीं, लेकिन इस दौर की विडम्बनाओं को कविता में महसूस किया जा सकता है.
    देखने वालों को दिखते हैं नर्म नाज़ुक फूल, रंग उनका गर्मजोश खुशियों का है सुर्ख़,, लेकिंन हैं वह लोहे के, वह भी नीले लोहे के... नीला यानी सीली हुई और शायद 'भुतही' ठंड का रंग!
    चन्दन की अगरबत्ती है, लेकिन धुआँ उपलों का दे रही है! इससे बड़ी विडम्बना भला और क्या होगी?
    शाल 'बेशक़ीमती' कश्मीरी है, ज़ाहिर है कि ऊपर से बेहद ख़ूबसूरत दिखेगी, लेकिन अन्दर सिहरन किसी गीले ठंडे कीड़े के रेंगने की होती है!
    दीखने, देखने और उसके होने में, उसके एहसास में कितना डरावना फ़र्क़ है.
    कमाल कर दिया अमित जी आपने. और हाँ 'सुपरमून' से बात शुरू हुई है. यह दुनिया अपने-अपने 'सुपरमैन' की दीवानगी में खोयी हुई है.
    --- क़मर वहीद नक़वी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको एक शानदार और लंबी टिप्पणी लिखने को 'मजबूर' कर दिया, मेरी कविता की सफलता का इससे बड़ा प्रमाण क्या होगा भला? मैं अभिभूत हूँ!
      ये सर्वविदित है कि आप एक निष्पक्ष आलोचक, टीकाकार और विश्लेषक हैं... अब आपकी कला / साहित्य मर्मज्ञता का भी मैं क़ायल हो उठा हूँ! (इसलिए नहीं कि आपने मेरे लेखन की प्रशंसा की है, बल्कि इसलिये कि आपने उसकी बहुत सुन्दर विवेचना की है.)
      फूल, अगरबत्ती और शॉल के माध्यम से जो मैंने कहना चाहा था आपने उसे यक़ीनन हू-ब -हू पकड़ लिया है..
      नीला-लाल, चन्दन-उपले, कश्मीरी और कीड़े के भीतर छिपे अपरम्परागत उपमान तथा उपमेयों का ग़ैर-पारम्परिक प्रतीकीकरण (सतही नहीं, गहन अर्थ सहित भी) आपने एक विलक्षण विद्वत्दृष्टि से पकड़ लिया जो कि आपकी विद्वत्ता का परिचायक है!
      आपका तहे-दिल से शुक्रग़ुज़ार हूँ, नक़वी साहब, कि आपके कमेन्ट से उत्साहित हो कर मैं पिछले छः माह में लिखी अपनी सभी रचनाओं को प्रकाशित करने का साहस कर पाऊंगा...
      हा हा :):) आपका 'सुपरमैन' सिर्फ़ एक (सन्दर्भहीन?) शब्द होने के बावजूद कितना कुछ बोल-बता जाता है:):) साधुवाद!!

      Delete
  12. God to see you writing again, for a long time you just posted pictures :D

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Mridula:) Please do drop in more often..there're more to come:)

      Delete
  13. The juxtaposition of words, with different meanings has helped to shape the poem in a different way...the end effect is dreamy. You have a great way with words, Amit ji... wonderful!

    ReplyDelete
    Replies
    1. The attestation by poets like you gives me courage and strength to go! Thanks a whole lot, Maniparna:)

      Delete
  14. Beautiful! while reading the prologue, being the one not to do what I am told to do, I decided to read it JUST once. But,then being that one too who is flexible enough to bow down, I read MANY times..simply because of the sheer beauty of your words and their unfolding meaning! Excercising my reader's rights as Sunaina has said, along with her interpretation of a facade of tranquility and the underneath restlessness... which I second with, I also felt a longing, a search for aesthetic beauty and an cold angst too!In the दिमाग़ में तैरते विचार,
    दिल में थमे अहसास .. these lines gave me a feeling of नीरव निःस्तब्धता. I found the poet to be in a restless acceptance with life!
    Loved it.. am waiting eagerly for more :)

    ReplyDelete
  15. 'restless acceptance', 'नीरव निःस्तब्धता'..Absolutely!
    Thank you so much for your generous words about the poem, I'm overwhelmed, Kokila!
    I bank on you to be able to present more:)

    ReplyDelete
  16. एक बार मे ही लाजवाब ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Pasand karne ke liye shukriya, Joshi ji:)

      Delete
  17. Very nice.. Wonderful to see you back writing poetry.

    ReplyDelete