Followers

Wednesday, 18 January 2017

समूह

तमाम कोशिशों के बावजूद
बलिष्ठ केकड़ों की
फ़ौलादी जकड़ से जब मैं
निकल पाया
तो मैंने इन्तज़ार किया,
और  एक-दूसरे को खा-खा कर
जब वो इतने मोटे हो गए
की टोकरे में समाएं
तो एक दिन मैं  बस चुपचाप
फिसल कर निकल गया.

भागने की जुगत में
मुझे चाहते भी
भेड़ों के एक रेवड़ में
शामिल होना पड़ा...
कोई बात नहीं, मजबूरी!

थोड़ी दूर चलकर
मुझे ताज्जुब हुआ
ये देख कर
कि इतने अनुशासित रेवड़ की
सारी भेड़ें नितान्त अन्धी थीं ;
लेकिन मैं जैसे
बेमौत मरा  ये जान कर
कि सबसे आगे चलने वाले
उनके नेता ने
काला चश्मा भी पहना हुआ था!
Both images from Google

37 comments:

  1. On a lighter not it can be,आसमान से गिरा और खजूर में अटका.. but its extremely painful and the revelation is generally numbing to the senses, especially to a raw and revolutionary personality.अक्सर हर मोड़ पर, हर व्यक्ति से, संघर्ष करते करते हमारा मूल उद्देश्य भूल जाता है और बस, संघर्ष प्रधान रह जाता है... और किसको दिखाएँ की लीडर ने काला चश्मा लगाया है? जब सारे ही बिना चश्मे के खुद का प्रतिबिम्ब भी नहीं झेल पात हों? Though it is an Excellent sarcasm, but I cant help feeling sorry and sad for this situation.

    ReplyDelete
    Replies
    1. :):) जी, बिलकुल सही कहा आपने, स्थिति यही है कि आसमान से गिरा और खजूर में अटका :)
      आपने एक तक़लीफ़देह कहानी की बेहतरीन समीक्षा की है, कोकिला, अनेक धन्यवाद!
      A sensitive reader who 'feels' is bound to be sad and sorry on this..and I guess it indicates that I've been successful in presenting a long and torturous saga in a couple of lines! Thanks loadz again, Kokila:)

      Delete
  2. बहुत गहरे अर्थ लिए हुए रचना.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप जैसे क़द्रदानों का साथ मुझे उत्साहित करता है:)
      कोशिश करता रहूँगा, प्रेरणा के लिए धन्यवाद राजीव:)

      Delete
  3. profound ..deep seated and superbly presented

    ReplyDelete
    Replies
    1. Glad you liked, Shams:) Thanks bro:)

      Delete
  4. ये देख कर
    कि इतने अनुशासित रेवड़ की
    सारी भेड़ें नितान्त अन्धी थीं ;


    सबसे आगे चलने वाले
    उनके नेता ने
    काला चश्मा भी पहना हुआ था!------adbhut ----

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा लगा कि आपको पसंद आया:) धन्यवाद, रजनी:)

      Delete
  5. samooh ki anokhi mansthithi ----follow the leader !!!

    ReplyDelete
  6. इतने गहरे शब्दों में छुपी वेदना को महसूस करना , उसे व्यक्त करना आसान नहीं होता ! बेहतरीन अभिव्यक्ति अमित जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. ..और फिर उस अभिव्यक्ति को समझना भी तो आसान नहीं है, भाई योगेन्द्र...
      बहुत खुश हूँ कि आपने समझा और सराहा:) धन्यवाद:)

      Delete
  7. सत्य का सबके समक्ष आना मुश्किल है और किसी तरह तमाम कोशिशों के बावजूद सत्य स्वयं को उजागर करे भी तो उसे देखने समझने वाले कितने हैं।यहाँ तो "अंधेर नगरी चौपट राजा......।
    कहीं नजर कहीं निशाना।
    अनेक दशाओं को सम्बोधित करती आपकी रचना।
    जो जिधर से देखना चाहे वहीँ फिट।
    क्या कहने, बस वाह!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है सुधा:)
      कविता पसंद करने के लिए धन्यवाद!
      आती रहिएगा..

      Delete
  8. Great words & apt images.
    "Kaala Chashma" rocks :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. :) "Kaala chashma" absolutely rocks:)
      And I wish it always does:)
      All the best Anita:) and thank you too:)

      Delete
  9. Replies
    1. Glad you noticed the depth and strength, Jyotirmoy:) Thank you dear:)

      Delete
  10. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज रविवार (22-01-2017) को "क्या हम सब कुछ बांटेंगे" (चर्चा अंक-2583) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शास्त्री जी, आभार!

      Delete
  11. ज़रूरी होता है अपनी सोच को मुखरत करना ऐसे में ... वरना आसमान से गिरा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल सही! धन्यवाद दिगम्बर जी:)

      Delete
  12. Replies
    1. Thank you Mridula:) Glad you liked:)

      Delete
  13. बहुत खूब अमितजी! दो तीन बार पड़कर मज़ा लिया!

    ReplyDelete
    Replies
    1. It gives me immense pleasure, Rajeev, when non-Hindi speaking friends like my work too:)
      Thanks a lot dear:)

      Delete
  14. परिवेश को आइना दिखाता धारदार व्यंग.

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है..
      पसंद करने के लिए धन्यवाद यादव जी:)
      आते रहिएगा..

      Delete
  15. अमित जी, आज-कल के केकड़ा प्रवृति एवं भेड़-चाल पर आधारित एक सुंदर व्यंग लिखा है आपने।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसंद करने के लिए धन्यवाद राकेश:)

      Delete
  16. उन मोटे केकड़ों और अंधी भेड़ों से ज्यादा सावधान, काला चश्मा लगाई भेड़ से होना होगा।
    क्या वो वाकई अंधी है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ भई, बात बहुत ज़बर्दस्त है आपकी!
      असली डर तो इसी का होना चाहिए...
      एक नए दृष्टिकोण के लिए धन्यवाद, मनीषा:)

      Delete